Pages

Sunday, June 6, 2010

पैगाम..

वो अपनी ही अदाओं के दीवाने हैं,
इसलिए अपने ही अक्स पर शरमाते हैं, मुस्कुराते हैं|
बोलने को साथ में अल्फाज़ न ही हों मगर,
जाने किस फितूर में बातें किये जाते हैं|

उनको फिक्र नहीं, मगर मेरे महबूब हैं,
इसलिए हम एकटक उन्हें देखे जाते हैं,
मगर घबराते हैं फिर जाने क्यों,
और अपनी नज़र आप ही झुकाते हैं|

वो तो काजल लगाते हैं खुद को,
और नज़र लगने से बचाते हैं।
हमें उनके अक्स से भी मगर प्यार है उतना ही,
इसलिए हम शीशे को भी काजल लगाते हैं|

8 comments:

  1. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    ReplyDelete
  2. "हम शीशे को भी काजल लगाते हैं"
    खूब कही

    ReplyDelete
  3. kya baat kahi hai seeshe ko kajal lagane ki

    ReplyDelete
  4. ap sabhi ko dhanyawad..
    asha hai apka sahyog aur subhkamnayein mujhe yun hi likhne ke liye prerit karta rahega..

    ReplyDelete
  5. Wahhh .... Sir aap kamaal likhte hain ...

    ReplyDelete
  6. dhanyawad shekhar sir

    ReplyDelete
  7. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    ReplyDelete
  8. " बाज़ार के बिस्तर पर स्खलित ज्ञान कभी क्रांति का जनक नहीं हो सकता "

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति.कॉम "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . अपने राजनैतिक , सामाजिक , आर्थिक , सांस्कृतिक और मीडिया से जुडे आलेख , कविता , कहानियां , व्यंग आदि जनोक्ति पर पोस्ट करने के लिए नीचे दिए गये लिंक पर जाकर रजिस्टर करें . http://www.janokti.com/wp-login.php?action=register,
    जनोक्ति.कॉम www.janokti.com एक ऐसा हिंदी वेब पोर्टल है जो राज और समाज से जुडे विषयों पर जनपक्ष को पाठकों के सामने लाता है . हमारा प्रयास रोजाना 400 नये लोगों तक पहुँच रहा है . रोजाना नये-पुराने पाठकों की संख्या डेढ़ से दो हजार के बीच रहती है . 10 हजार के आस-पास पन्ने पढ़े जाते हैं . आप भी अपने कलम को अपना हथियार बनाइए और शामिल हो जाइए जनोक्ति परिवार में !

    ReplyDelete

About Me

मैं जिंदा हूँ, मगर ज़िंदगी नहीं हूँ; मुझपे मरने की ग़लती करना लाज़िम नहीं है|

Followers